Virat Kohli: रोबिन उथप्पा विराट कोहली की आलोचनाओं को लेकर भड़के, कहा- हमें कोई हक नहीं विराट को खेलना सिखाएं

0
93
virat kohli

Virat Kohli: भारतीय टीम के पूर्व कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) अपनी आलोचनाओं को लेकर काफी ज्यादा चर्चा का विषय बने हुए हैं. इससे पहले भी वह चर्चा के विषय बने रहते थे लेकिन इस बार मुद्दा कुछ दूसरा है. पहले वह अपनी शानदार बल्लेबाजी के कारण चर्चा का विषय बने रहते थे और अब अपनी खराब फॉर्म के कारण चर्चा का विषय बन रहे हैं. पिछले 3 साल में खेली गई 78 अंतरराष्ट्रीय पारियों में उन्होंने एक भी शतक नहीं लगाया है. फॉर्म में वापस लौटने के लिए विराट कोहली (Virat Kohli) बहुत ज्यादा लंबा समय ले रहे हैं जिससे उन्हें टीम से बाहर करने की बात की जा रही है.

Virat Kohli : विराट कोहली की खराब फॉर्म

विराट कोहली इस समय अपनी खराब फॉर्म से बाहर निकलने की काफी मेहनत कर रहे हैं. कोहली की खराब फॉर्म को लेकर कई दिग्गज खिलाड़ियों की आलोचना कर चुके हैं और उन्हें टीम से बाहर करने की राय भी दे रहे हैं. कुछ लोगों का कहना है कि विराट कोहली को आराम करना चाहिए. लेकिन कई ऐसे दिग्गज क्रिकेटर भी है जो विराट कोहली के सपोर्ट में उतरे हैं. अब 2007 का T20 वर्ल्ड कप विजेता टीम का हिस्सा रह चुके पूर्व भारतीय खिलाड़ी रोबिन उथप्पा अभी विराट कोहली के सपोर्ट में उतरे हैं. उन्होंने विराट की आलोचना करने वाले लोगों को जमकर लताड़ लगाई है.

Virat Kohli : रोबिन उथप्पा ने बयान में कहा

इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स के ओपनर बल्लेबाज रोबिन उथप्पा ने बयान में कहा है कि जब विराट कोहली (Virat Kohli) जब शतक लगा रहे थे तो उनकी बल्लेबाजी तकनीक को लेकर किसी भी खिलाड़ी ने कोई सलाह नहीं दी तो अब खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं विराट को ज्ञान देने का हक किसी के पास नहीं है.

पूर्व भारतीय खिलाड़ी रॉबिन उथप्पा ने शेयरचैट के एक सेशन के दौरान कहा कि, ‘जब विराट कोहली (Virat Kohli) एक के बाद एक लगातार शतक बना रहे थे और लगातार टीम की जीत में अहम भूमिका निभा रहे थे तब तो किसी ने भी आकर उनके बल्लेबाजी टेक्निक या फिर उन्हें लेकर कोई भी सलाह नहीं दी. तब तो आकर किसी ने भी उनको बल्लेबाजी करना नहीं सिखाया.

लेकिन जब वह खराब प्रदर्शन कर रहे हैं और बल्लेबाजी के खराब दौर से गुजर रहे हैं तो हर कोई आकर उन्हें ज्ञान देता जा रहा है, जिसका हक उन्हें बिल्कुल नहीं है. कोई भी उनकी बल्लेबाजी तकनीक पर सवाल नहीं उठा सकता. तो अब हमें विराट कोहली को यह बताने का अधिकार नहीं है कि उसे किस टेक्निक से खेलना चाहिए या फिर उसे आराम करना चाहिए. उन्होंने अपनी काबिलियत के दम पर ही 70 इंटरनेशनल शतक लगाए हैं. इसलिए हमें उन्हें अकेला छोड़ देना चाहिए ताकि मैं मानसिक और शारीरिक रूप से फिट होकर वापस अपनी फॉर्म में लौट सकें.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here