Uttarpradesh: यूपी में सरकारी दावे फेल! महिला की ठेले पर हुई डिलीवरी, समय पर नहीं पहुंची एम्बुलेंस

0
85
thela

Uttarpradesh: उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) में मरीजों को सरकारी एंबुलेंस से तत्काल अस्पताल पहुंचाने का यूपी सरकार का दावा बस्ती में झूठा होता दिख रहा है। लेबर पेन के दर्द से चिल्लाती हुई महिला को पहुंचाने के लिए एंबुलेंस वक्त पर नहीं पहुंची। परिवार वालों ने मजबूरी में आकर ठेले से महिला को अस्पताल के लिए रवाना किया। महिला को ले जाते हुए रास्ते में ही उसकी डिलीवरी हो गई। मां और बच्चे के सीएससी कप्तानगंज पहुंचने पर स्टाफ नर्स और दायमा ने नाल काटकर महिला को भर्ती कर लिया।

यह मामला उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) राज्य के रानीपुर गाँव का है. महिला के परिवार वालों पर बीती इस घटना का वीडियो बनाकर परिवार वालों ने सोशल मीडिया पर फैला दिया है। डॉक्टर एसपी सिंह का कहना है कि उनकी जानकारी में यह मामला आया है। इस पूरी घटना की जानकारी होने पर डीएम ने सीएमओ के साथ एंबुलेंस की जिम्मेदारी को तलब किया है। उच्च अधिकारियों का कहना है कि वह इस पूरे मामले की कार्यवाही करेंगे।

Uttarpradesh

Uttarpradesh : गांव की आशा घर पर बुलाया

उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) के कप्तानगंज ब्लाक के रानीपुर गांव के रहने वाले रामसागर के यहां उनकी साली सीमा देवी कुछ दिनों से आई हुई थी। मंगलवार की आधी रात को सीमा को अचानक लेबर पेन स्टार्ट हो गया। राम सागर के परिवार वालों ने गांव की आशा विमलेश तिवारी को घर पर बुलाया था। विमलेश तिवारी ने देर रात 10:00 बजे एंबुलेंस के लिए 102 नंबर पर फोन भी किया था।

आशा का कहना है कि उन्हें बताया गया कि एंबुलेंस खराब हो गई है। और तो और एंबुलेंस फिलहाल दूसरे किसी केस के लिए गई हुई है। आशा का कहना है कि उन्हें बताया गया कि आपका केस 108 एंबुलेंस को दे दिया गया है। लेकिन काफी वक्त बीतने के बाद भी अस्पताल से लगभग 3 किलोमीटर दूर रमवापुर एंबुलेंस वक्त पर नहीं आई।

Uttarpradesh : रास्ते में ही दिया बच्चे को जन्म

लेबर पेन का दर्द बढ़ने लगा तो परिवार वालों ने सीमा को ठेले पर लादकर अस्पताल की ओर ले जाने लगे। रास्ते में ले जाते हुए ही रमवापुर बाग के पास पहुंचते ही 10:30 पर सीमा ने बच्चे को जन्म दे दिया। उस वक्त सीमा के साथ आशा विमलेश तिवारी, उनकी बहन पूनम और बहनोई राम सागर सीमा को ठेले पर ही लेकर अस्पताल ले जा रहे थे। रात के 11:10 पर स्टाफ नर्स ने और दायमा ने नाल काटकर बच्चे और उसकी मां को सुरक्षित अस्पताल में भर्ती कर लिया।

ऐसा मामला उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh) सरकार के लिए निंदनीय है. अधिकारियों ने कहा है कि इस मामले की पूरी जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने वाले को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here