Uttarpradesh : बिजली विभाग के इंजीनियर से ही मांगी रिश्वत, पकडे गए स्मार्ट मीटर स्लो करने वाले आरोपी

0
120
Uttarpradesh

Uttarpradesh : हाल ही में उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में मीटर से बिल कम करने का मामला सामने आया है। यह मामला बड़ा ही दिलचस्प है क्योंकि व्यक्ति ने बिजली विभाग के कर्मचारी को ही ₹5000 देकर अपना मीटर से बिल कम कराने की कोशिश की। शख्स को इस बात का पता ही नहीं था कि वह जिस अधिकारी को बिजली कम करने का ऑफर दे रहा है, वह बिजली विभाग का एग्जीक्यूटिव इंजीनियर है।

जानकारी के मुताबिक, मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर अरविंद ओझा के मोबाइल नंबर पर प्रशांत गुप्ता नाम के व्यक्ति की कॉल आई। प्रशांत ने फोन पर कहा कि वह सिर्फ ₹5000 में मीटर से बिजली कम कर देता है, जिस वजह से बिजली का बिल बहुत ही कम आएगा। और तो और प्रशांत गुप्ता ने बताया कि वह घरों में मीटर लगाने का ही काम करता है।

riswat

अरविंद ओझा ने तुरंत ही प्रशांत गुप्ता को अपने घर आने के लिए कहा। प्रशांत जैसे ही अपने दोस्त दीपक मौर्य के साथ घर पहुंचा तो वह दंग रह गया। दरअसल वहां पर पहले से ही बिजली विभाग के कर्मचारी प्रशांत को पकड़ने के लिए तैयार थे। विद्युत विभाग के लोगों ने प्रशांत और दीपक को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।

Uttarpradesh : आईपीएस कंपनी को मिला था स्मार्ट मीटर लगाने का जिम्मा

गाजीपुर पुलिस स्टेशन के एसएचओ रामेश्वर कुमार ने बताया कि दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पकड़े गए व्यक्ति के पास से बिजली का मीटर बनाने वाली कंपनी आईपीएस की आईडी मिली है। साथ ही पॉली कार्बन सील एवं मीटर सीलिंग बुक भी मिली। एसएचओ ने बताया कि आईपीएस कंपनी को स्मार्ट मीटर लगाने का जिम्मा एलएनटी कंपनी ने 2020 में सौंपा था।

Uttarpradesh : आईपीएस कंपनी में काम करता था आरोपी

जब बिजली विभाग को पता चला कि बिजली के मीटर को धीमा करने और बिल को आधा करने वाला व्यक्ति आईपीएस कंपनी में काम करता है, तो ऐसी स्थिति में बिजली विभाग के लोगों ने आईपीएस और एलएनटी कंपनी को रिप्रेजेंट करने वाले अनुज मिश्रा और भगवान पाल को पूछताछ के लिए बुलाया। भगवान पाल ने प्रशांत गुप्ता को पहचाना और बताया कि वह पहले इनकी ही कंपनी में काम करता था।और तो और भगवान पाल ने बताया कि उन्होंने कई बार प्रशांत को कहा था कि वह आईडी कंपनी में जमा कर दें लेकिन प्रशांत ने ऐसा नहीं किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here