Sunil Dutt Life Facts : 25 रुपये थी सुनील दत्त की सैलरी, दिलीप कुमार ने बदली इनकी किस्मत और बन गए सुपरस्टार

0
334
Sunil Dutt Life Facts

Sunil Dutt Life Facts : 6 जून आज का दिन बहुत ही खास है क्योंकि आज ही के दिन 6 जून 1929 को सुनील दत्त का जन्म हुआ था। सुनील दत्त का बचपन आजादी के लड़ाई और दंगों में गुजर गया। जब सुनील जी 5 वर्ष के हुए तब उनके पिताजी इस दुनिया से चले गए। जब सुनील जी 18 साल के हुए तब भारत पाकिस्तान की लड़ाई के कारण वह सपरिवार पाकिस्तान चले गए। लेकिन सुनील जी हिंदुस्तान में ही रहे। सुनील जी ने अपना घर चलाने के लिए कई संघर्ष किए हैं। जैसे कि कभी वह आर्मी में हवलदार बन जाते थे तो कभी वह ट्रांसपोर्ट कंपनी में मामूली से नौकर। लेकिन उनकी किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। जय हिंद कॉलेज में पढ़ते वक्त वह थिएटर ग्रुप में भी काम करते थे। थिएटर में उनका अभिनय और उनकी आवाज सुनकर उन्हें रेडियो कंपनी में नौकरी दी गई, जिसमें उनकी तनख्वाह सिर्फ 25 रुपये थी।

Sunil Dutt Life Facts

Sunil Dutt Life Facts : बड़े एक्टर्स का लिया इंटरव्यू

सुनील दत्त को रेडियो के वजह से नरगिस, दिलीप कुमार, और देवानंद जैसे स्टार के इंटरव्यू लेने का मौका मिल जाता था। एक बार दिलीप कुमार का इंटरव्यू लेने के लिए सुनील दत्त उनके फिल्म के सेट पर चले गए थे। वहां पर डायरेक्टर रमेश सहगल ने उनका स्क्रीन टेस्ट लेकर उन्हें फिल्म में काम करने का ऑफर दिया। 1955 में ‘रेलवे प्लेटफार्म’ से सुनील जी फिल्मों में आ गए। सुनील जी ने कई फिल्मों में काम किया लेकिन उन्हें पहचान 1958 में आई मदर इंडिया फिल्म से मिली। मदर इंडिया फिल्म से सुनील जी और नरगिस जी करीब आए। इन दोनों ने 1959 में शादी कर ली।

बन गए प्रोड्यूसर:- सुनील जी ने कुछ समय बाद अजंता प्रोडक्शन हाउस शुरू कर कर फिल्में बनाने लग गए। साल 1964 में फिल्म ‘यादें’ से सुनील जी ने डायरेक्शन में भी हाथ पकड़ लिया। सुनील जी ने ही अपने बेटे संजय दत्त को 1981 में रॉकी फिल्म से लांच किया था। संजय दत्त की यह फिल्म हिट तो हुई लेकिन इस फिल्म के कुछ दिन पहले उनकी माता का निधन हो गया। जो कि काफी समय से कैंसर जैसी बड़ी बीमारी से पीड़ित थी। सुनील जी की पत्नी की मृत्यु के बाद सुनील जी काफी टूट से गए थे और वह अपने आपको बिजी रखने के लिए कैंसर पीड़ित मरीजों की मदद करते थे।

बेटे को बचाने के लिए बेचा अपना घर:- सुनील जी का दूसरा बुरा वक्त तब आया जब उनको अपने बेटे संजय दत्त को जेल से छुड़ाने के लिए अपना घर बेचना पड़ा। सुनील जी के दोस्त राजीव गांधी के कहने पर सुनील जी राजनीति में आए। और तो और वह कामयाब भी रहे। सुनील जी ने अपनी जिंदगी का बहुत वक्त फिल्मों को दिया है। कम से कम 48 साल फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े रहे। सुनील जी ने 100 से अधिक फिल्में की है। और तो और उन्हें पदम श्री नेशनल अवार्ड भी मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here