Gaziabad: 12वीं के छात्र ने ऐसे बनाया चोर गैंग, पिटाई के कारण पहली बार चुराई प्रिंसिपल की बाइक

0
95
chor

Gaziabad: किसी ने कहा था कि शौक बड़ी चीज है और आजकल यह बात सच भी होने लगी है। शौक-शौक में कुछ विद्यार्थियों ने बाइक चुराने का काम शुरू कर दिया है और देखते ही देखते इन्होंने अपनी एक गैंग बना ली है। अपने महंगे महंगे शौक को पूरा करने के लिए विद्यार्थियों ने अपनी एक गैंग बनाकर बाइक चोरी करने का काम शुरू कर दिया है। इस गैंग में 4 लोग शामिल है।

Gaziabad

Gaziabad : शौक पूरा करने के लिए बनाई चोर गैंग

गाजियाबाद (Gaziabad) के बापूधाम पुलिस ने ऐसे ही 4 आरोपियों को अपने हिरासत में ले लिया है। इन चार आरोपियों में से तीन छात्र शहर के अंदर बाइक चोरी का काम कर रहे हैं। बाइक चोरी करने के बाद यह लोग बाइक का नंबर प्लेट हटा देते हैं और कुछ समय तक बाइक को छुपा कर रखते हैं, ताकि पुलिस इन तक पहुंच ना पाए। कुछ समय बीतने के बाद यह लोग बाइक को कुछ 15 से 20 हजार रुपयों के लिए बेच देते हैं।

Gaziabad : दो महीने में की 20 बाइक चोरी

चौका देने वाली बात तो यह है कि 2 महीने के अंदर ही अब तक 20 बाइक चोरी कर बेच चुके हैं यह आरोपी। गाजियाबाद (Gaziabad) की बापूधाम पुलिस ने इन आरोपियों के पास से बाइक का नंबर प्लेट और चोरी करते वक्त इस्तेमाल होने वाले औजारों को भी बरामद कर लिया है। पुलिस अफसरों ने बताया है कि इन आरोपियों की पहचान हो चुकी है, आरोपियों का नाम निखिल कुमार, अमन, अर्जुन, दीपक यादव है। इस गैंग का मास्टरमाइंड निखिल कुमार को बताया जा रहा है।

Gaziabad : गर्लफ्रेंड के खर्च पूरा करने के लिए करते है बाइक चोरी

यह आरोपी अपने गर्लफ्रेंड के खर्चे और अपने बड़े शौक को पूरा करने के लिए बाइक चोरी करने का काम किया करते थे। गाजियाबाद (Gaziabad) निवासी निखिल, दीपक और अर्जुन यह तीनों 12वीं पास बताए जा रहे हैं। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि वह सुनसान जगहों से बाइक को चुरा लिया करते थे और फिर किसी दूसरे गांव में ले जाकर बाइक को भेज दिया करते थे।

Gaziabad : पहली बार की खुद के प्रिंसिपल की बाइक चोरी

दरअसल निखिल ने बताया कि उन्होंने अपने प्रिंसिपल से एक बार छुट्टी मांगी थी, लेकिन प्रिंसिपल ने बच्चों को छुट्टी होने के कारण पिटाई कर दी। इसलिए गुस्से में आए निखिल ने प्रिंसिपल को सबक सिखाने के लिए उनकी ही बाइक चुराई। बाइक चुराने के बाद पकड़े ना जाने की वजह से इन्हें इस बात का चस्का लग गया कि हम आगे भी बाइक आसानी से चुरा सकते हैं और फिर देखते ही देखते इन्होंने एक के बाद एक बाइक चुराने का काम शुरू कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here