Aligarh: हिंदी विषय ना पढ़ाने पर बच्ची के पिता ने किया स्कूल से सवाल, तो काटा बच्ची का स्कूल से नाम

0
80
Aligarh

Aligarh: स्कूल में हिंदी विषय ना पढ़ाने पर पिता ने पूछा शिक्षक से की हिंदी क्यों नहीं पढ़ा रहे तो नर्सरी के बच्चे को स्कूल से बाहर निकाल दिया। यह मामला अलीगढ़ (Aligarh) का बताया जा रहा है। दरअसल बात यह है कि अलीगढ़ के प्राइवेट स्कूल में एक मासूम बच्ची के पिता ने स्कूल प्रशासन से यह पूछ लिया कि आप हिंदी विषय क्यों नहीं पढ़ा रहे हो इतनी सी बात पर स्कूल प्रशासन ने नर्सरी में पड़ रही बच्चे को स्कूल से बाहर निकाल दिया।

बच्ची को स्कूल से निकालने के बाद परिजनों ने डीएम कार्यालय में जाकर इंसाफ के लिए गुहार लगाई है। डीएम इंद्र विक्रम सिंह ने पूरे मामले को सुनकर मामले की जांच बीएसएफ को सौंप दी है।

Aligarh

अलीगढ़ (Aligarh) के थाना क्वार्सी इलाके फोर्ट एल्कलेव, पंजीपुर गांव के रहने वाले मोहम्मद आमिर ने बताया कि इसी साल उन्होंने अपनी बच्ची को यही नजदीक के इस्लामी मिशन स्कूल के नर्सरी कक्षा में एडमिशन कराया था। बच्ची को स्कूल जाते हुए कुछ महीने बीत गए थे, लेकिन अभी भी बच्ची को हिंदी लिखने और पढ़ने नहीं आ रहा था। बच्ची को हिंदी ठीक से पढ़ने ना आने के कारण पिता अपनी पत्नी और बच्ची को लेकर स्कूल चला गया और वहां जाकर हिंदी विषय के बारे में शिक्षकों से बात करने लगा।

जब पिता ने शिकायत की कि स्कूल में हिंदी क्यों नहीं पढ़ाई जा रही तो शिक्षकों ने पिता के साथ बदसलूकी की और बच्ची को स्कूल से निकाल दिया। बच्ची के पिता का कहना है कि स्कूल में राष्ट्रगान भी नहीं गाया जाता है। जब मासूम बच्ची के पिता ने शिकायत दर्ज कराई तो स्कूल प्रशासन ने बच्ची के पिता पर अपनी रिपोर्ट वापस लेने का काफी दबाव बनाया।

Aligarh

बेसिक शिक्षा अधिकारी सत्येंद्र कुमार ढाका का कहना है कि यह घटना जावा ब्लॉक से जुडी है। क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी को आगे की छानबीन करने के लिए टीम तैयार कर दी गई है। जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं दूसरी और बच्ची को हिंदी ना पढ़ाने को लेकर स्कूल प्रशासन ने सफाई भी दी है।

Aligarh: स्कूल प्रशासन ने भी दी सफाई

इस पूरी घटना पर इस्लामिक मिशन स्कूल के मैनेजर डॉ० कौनैन कौसर से बात की गई तो उन्होंने बच्ची को हिंदी न पढ़ाये जाने की बात को स्वीकारते हुए अपनी सफाई पेश की है। शिक्षक का कहना है कि बच्ची के पिता जो भी कह रहे हैं। वह सब बेबुनियाद बातें हैं स्कूल में राष्ट्रगान होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here